"मनुष्य को जीने के लिए रोटी ही नही चाहिए , उसके पास दिमाग है , जिसे विचारो के भोजन की आवश्यकता है " डॊ भीमराव अम्बेडकर
" Man cannot live by bread alone,He has a mind which needs food for thought " Dr. B. R. Ambedkar
"मनुष्य को जीने के लिए रोटी ही नही चाहिए , उसके पास दिमाग है , जिसे विचारो के भोजन की आवश्यकता है " डॊ भीमराव अम्बेडकर
" Man cannot live by bread alone,He has a mind which needs food for thought " Dr. B. R. Ambedkar
"मनुष्य को जीने के लिए रोटी ही नही चाहिए , उसके पास दिमाग है , जिसे विचारो के भोजन की आवश्यकता है " डॊ भीमराव अम्बेडकर
" Man cannot live by bread alone,He has a mind which needs food for thought " Dr. B. R. Ambedkar
"मनुष्य को जीने के लिए रोटी ही नही चाहिए , उसके पास दिमाग है , जिसे विचारो के भोजन की आवश्यकता है " डॊ भीमराव अम्बेडकर
" Man cannot live by bread alone,He has a mind which needs food for thought " Dr. B. R. Ambedkar
"मनुष्य को जीने के लिए रोटी ही नही चाहिए , उसके पास दिमाग है , जिसे विचारो के भोजन की आवश्यकता है " डॊ भीमराव अम्बेडकर
" Man cannot live by bread alone,He has a mind which needs food for thought " Dr. B. R. Ambedkar
"मनुष्य को जीने के लिए रोटी ही नही चाहिए , उसके पास दिमाग है , जिसे विचारो के भोजन की आवश्यकता है " डॊ भीमराव अम्बेडकर
" Man cannot live by bread alone,He has a mind which needs food for thought " Dr. B. R. Ambedkar

गौतम प्रकाशन

Hindi Title

Poll

You would like to read more on आप किस विषय पर किताबें पढ़ना चाहते हैं
  • Dr Ambedkar / डॉ अम्बेडकर
  • Buddha,Religion /बुद्ध
  • Dalit / दलित
  • Saint / संत
  • OBC / अन्य पिछड़ा वर्ग

Total Hits

ड़ॉ. अम्बेडकर दारा लिखित पुस्तके BOOKS WRITTEN BY DR B R AMBEDKAR

Click Below to see Other Publication Books distributed by us
हमारे द्धारा वितरित अन्य प्रकाशन की पुस्तकें देखने के लिए नीचे क्लिक करें )

O ड़ॉ. अम्बेडकर दारा लिखित पुस्तके

और बाबा साहेब अम्बेडकर ने कहा (5 खंडों में)

O डॉ. अम्बेडकर को नजदीक से देखने वालों की कलम से

डॉ. अम्बेडकर के सम्पर्क में 25 वर्ष

O डॉ. अम्बेडकर सम्पूर्ण वाड्मय

डाॅ. अम्बेडकर सम्पूर्ण वाड्मय खंड 1 से 21 (महाराष्ट्र सरकार द्वा

English Title

Copyright © 2015 Gautam Book Center. All Rights Reserved.

Your Cart: Empty